Mayur News

खबरों की दुनिया

ग्रह संयोग / चैत्र नवरात्रि में गुरु और शुक्र का राशि परिवर्तन, राशि अनुसार क्या करें और क्या न करें

1 min read

जीवन मंत्र डेस्क. अभी चैत्र नवरात्रि चल रही है। देवी पूजा के इस महापर्व में दो बड़े ग्रहों का राशि परिवर्तन हो रहा है। शुक्र 28 मार्च को वृष राशि में प्रवेश करेगा और गुरु 29 मार्च को मकर राशि में जाएगा। गुरु यानी बृहस्पति देवताओं के गुरु हैं और दैत्यों के गुरु हैं शुक्राचार्य यानी शुक्र। इन दोनों ग्रहों का राशि परिवर्तन सभी 12 राशियों के लिए महत्वपूर्ण है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस संबंध में पंचांग भेद भी हो सकते हैं। गुरु ग्रह धनु और मीन राशि का स्वामी है। वृष और तुला राशि का स्वामी है शुक्र ग्रह। जानिए इन दोनों ग्रहों के राशि परिवर्तन की वजह से आपको आने समय में किन बातों का ध्यान रखना है, क्या करें और क्या न करें। ये राशिफल चंद्र राशि और शुक्र-गुरु की स्थिति पर आधारित है…

मेष- ऐसे काम करना पड़ सकते हैं, जिसमें बाधाएं आएंगी। धैर्य रखें और मेहनत करते रहें। सफलता मिलेगी। संकोच करने से बचें, वरना नुकसान संभव है।

क्या करें- दुर्गाजी को केले के फल का भोग लगाएं।

वृषभ- आपके खुद के दायरे में रहकर काम करना होगा, वरना अपमान हो सकता है। धन लाभ मिल सकता है, लेकिन कठिनाइयां भी आएंगी। प्रयास में कमी न छोड़ें।

क्या करें- मां काली को नींबू की माला चढ़ाएं।

मिथुन- आधाररहित कामों की ओर झुकाव रहेगा। बड़ी सफलता पाने के लिए मन व्याकुल रहेगा, लेकिन शांति से काम लें। जोश में नुकसान हो सकता है।

क्या करें- दुर्गाजी को खीर का भोग अर्पण करें।

कर्क- समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। निराशा की वजह से नुकसान होने की संभावनाएं। निराशा से बचें और उत्साह बनाए रखें।

क्या करें- दुर्गाजी को सफेद वस्त्र अर्पित करें।

सिंह- उत्साह बनाए रखना होगा। कार्यो में गति बना रखेंगे तो सफलता मिल सकती है। कड़ी मेहनत करनी होगी, इसमें पीछे न हटें। विवादों से बचें।

Copyright © All rights reserved. | E-suvidha Teachnology